होम Top News चीन ने LAC के तीन इलाकों से हटाई सेनाएं, वार्ता के बीच...

चीन ने LAC के तीन इलाकों से हटाई सेनाएं, वार्ता के बीच भारतीय फौज करती रहेगी पेट्रोलिंग

नई दिल्ली। भारत लद्दाख में पैगॉन्ग झील के किनारे फिंगर्स क्षेत्र के हिस्से में गश्त करता रहेगा। इसे दो देशों के बीच तनाव कम होने के बाद क्षेत्र में बड़े पैमाने पर चीनी घुसपैठ के बाद बचाया गया था। सरकारी अधिकारियों ने बताया कि पेट्रोलिंग को कुछ समय के लिए रोक दिया गया है, लेकिन मामले के शांत होने के बाद इसे फिर से बहाल किया जाएगा। हम अपने प्रत्येक प्वाइंट का भौतिक रूप से सत्यापन करेंगे।

सभी क्षेत्रों पर भारत का दावा

भारत ने पारंपरिक रूप से विवादित क्षेत्र में सभी आठ फिंगर्स में गश्त करने के अधिकार का दावा किया है और उनका मानना ​​है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा या LAC यहां फिंगर 8 पर है। वहीं, चीन का मानना ​​है कि LAC फिंगर 4 पर स्थित है, जिसके आगे क्षेत्र उन्हीं का है। इस साल मई में, चीनी बलों द्वारा भारतीय सैनिकों को फिंगर 8 की दिशा में जाने से रोकने के बाद यहां हुई हिंसक झड़पों में कई भारतीय सैनिक घायल हो गए थे।

मगर, चीनी सैनिकों के पीछे की कार्यवाही सफलतापूर्वक होने की प्रक्रिया के बाद उम्मीद है कि चीन फिंगर 4 और फिंगर 8 के बीच के क्षेत्र को खाली कर देगा। सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों से संकेत मिलता है कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनाव होने के बाद से विवादित क्षेत्र में 186 से अधिक चीनी टेंट और शेल्टर स्थापित किए गए हैं।

अब तक, चीन द्वारा फिंगर 4 क्षेत्र में सैनिकों की तैनाती में मामूली गिरावट आई है। हालांकि, वे फिंगर 4 और फिंगर 8 के बीच रिज-लाइनों पर अभी भी कब्जा किए हुए हैं। फिलहाल, चीनी और भारतीय सेनाओं ने गलवन घाटी, हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा में आपसी सहमति के बाद अपनी सेनाओं को 2-2 किलोमीटर पीछे हटा लिया है।

परामर्श और समन्वय के लिए कार्य तंत्र को स्थापित करने के लिए संयुक्त सचिव स्तर पर महत्वपूर्ण वार्ता जारी रहेगी। इसमें अप्रैल महीने के दौरान पांच क्षेत्रों में चीनी घुसपैठ की रिपोर्ट आने से पहले लद्दाख में यथास्थिति की बहाली की बात की जाएगी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हम सतर्क आशावाद के साथ आगे बढ़ रहे हैं और जमीनी स्तर पर की गई समग्र प्रगति की समीक्षा करेंगे।

बताते चलें कि गलवन क्षेत्र में चीनी बलों के साथ हिंसक संघर्ष में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद भारत और चीन के बीच वार्ता कई स्तरों पर जारी है। तब से लेकर अब तक लद्दाख में लेफ्टिनेंट जनरल, विदेश मंत्री स्तर की बातचीत और दोनों पक्षों के विशेष प्रतिनिधियों के बीच सैन्य स्तर की वार्ता हुई है। एक वरिष्ठ नौकरशाह ने कहा कि यह एक मुश्किल स्थिति थी क्योंकि हमारे पास सौदे का मुकाबला करने के लिए कुछ भी नहीं था। मगर, भारत ने अपने रुख का बचाव किया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोहली की 183 रनों पारी को गौतम गंभीर ने बताया बेस्ट.. जब PAK गेंदबाजों की उड़ाईं धज्जियां

New Delhi: इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज और पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने टीम इंडिया के कप्तान विराट...

अब फिल्म, वेब सीरीज में सेना को दिखाने के लिए रक्षा मंत्रालय से लेना होगा NOC

New Delhi: यूं तो भारतीय सेना से जुड़ी फिल्में (Armed Forces in Films & Web Series) दर्शकों को देशभक्ति से लभालभ कर देती हैं,...

राम मंदिर भूमि पूजनः सामने आने लगे मेहमानों के नाम, देखिए निमंत्रण पत्र

New Delhi: राम मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन को लेकर अयोध्या में खासा उत्साह है। खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र...

PM मोदी ने अमर सिंह के निधन पर जताया दुख, जानिए BJP के कट्टर विरोधी से वह कैसे बने नमो के मुरीद

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा सांसद अमर सिंह (Demise of Amar Singh) के निधन पर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा...

Recent Comments