होम Top News भरोसे के लायक नहीं धोखेबाज चीन, 1962 में पहले पीछे हटा फिर...

भरोसे के लायक नहीं धोखेबाज चीन, 1962 में पहले पीछे हटा फिर किया था हमला

New Delhi: धोखेबाज चीन: गलवान एरिया में चीनी सैनिकों ने पीछे हटना शुरू किया है। 1962 में भी गलवान (Galwan 1962) एरिया खबरों में था, उस वक्त भी चीनी सैनिक गलवान एरिया में आ गए थे और अब भी गलवान खबरों में है।

1962 में 15 जुलाई को सभी समाचार पत्रों में गलवान (Galwan 1962) को लेकर ही प्रमुख खबर थी। उस दिन की एक हेडलाइन थी- Chinese troops withdraw from Galwan post. लेकिन इस खबर के छपने के कुछ महीने बाद ही भारत-चीन के बीच 1962 का युद्ध शुरू हो गया।

तब भी गलवान था और अब भी वही इलाका है। भारतीय सेना में डीजीएमओ रह चुके लेफ्टिनेंट जनरल विनोद भाटिया (रिटायर्ड) बताते हैं कि 1962 (Galwan 1962) से पहले चीन ने पूरे अक्साई चीन पर अपना दावा जताया था और फिर चीन ने अपना वेस्टर्न हाइवे बनाना शुरू किया था। चीन ने इसी बीच गलवान में भी अतिक्रमण शुरू कर दिया। उस वक्त लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल नहीं होती थी।

इससे पहले चीन ने गलवान पर भारत के दावे को मान लिया था लेकिन फिर पलट गया। जब चीनी सैनिक आने लगे तो भारतीय सेना ने भी अपने पेट्रोलिंग टीम भेजी और 1/8 गोरखा राइफल्स की पोस्ट वहां पर बनी। भारतीय सैनिकों ने तब चीन की पोस्ट को कटऑफ कर दिया था।

इसी बीच चीनी सैनिकों ने भारतीय सेना की पोस्ट को चारों तरफ से घेर लिया। तब भारत ने कहा कि अगर चीनी सैनिक पोस्ट के 100 गज के अंदर आते हैं तो इसके नतीजे भुगतने होंगे। यह 4 जुलाई 1962 में शुरू हुआ। भारतीय पोस्ट पर भारतीय सैनिक डटे रहे। फिर 5 जाट की एक पोस्ट वहां बनाई गए और गोरखा राइफल्स के जवानों को हेलिकॉप्टर के जरिए निकाला गया।

जनरल भाटिया ने बताया कि 20 अक्टूबर 1962 को जब भारत चीन युद्ध की शुरुआत हुई तो यह गलवान से ही शुरू हुई। चीन ने गलवान पोस्ट पर अटैक किया जिसमें भारतीय सेना के 33 जवान शहीद हो गए। वैसे बाकी जगह भी तनाव चल रहा था लेकिन असल ट्रिगर यहीं से शुरू हुआ।

1962 के अनुभव के बाद क्या चीन पर भरोसा किया जा सकता है? इसका जवाब देते हुए लेफ्टिनेंट जनरल विनोद भाटिया (रिटायर्ड) ने कहा कि चीन ने भारत-चीन के बीच हुए समझौतों को नहीं माना और ईस्टर्न लद्दाख में इसका उल्लंघन किया। इसलिए चीन पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। खासकर 15 जून की रात जो हुआ उसके बाद तो बिल्कुल भी नहीं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोहली की 183 रनों पारी को गौतम गंभीर ने बताया बेस्ट.. जब PAK गेंदबाजों की उड़ाईं धज्जियां

New Delhi: इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज और पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने टीम इंडिया के कप्तान विराट...

अब फिल्म, वेब सीरीज में सेना को दिखाने के लिए रक्षा मंत्रालय से लेना होगा NOC

New Delhi: यूं तो भारतीय सेना से जुड़ी फिल्में (Armed Forces in Films & Web Series) दर्शकों को देशभक्ति से लभालभ कर देती हैं,...

राम मंदिर भूमि पूजनः सामने आने लगे मेहमानों के नाम, देखिए निमंत्रण पत्र

New Delhi: राम मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन को लेकर अयोध्या में खासा उत्साह है। खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र...

PM मोदी ने अमर सिंह के निधन पर जताया दुख, जानिए BJP के कट्टर विरोधी से वह कैसे बने नमो के मुरीद

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा सांसद अमर सिंह (Demise of Amar Singh) के निधन पर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा...

Recent Comments