होम Special story वैक्सीन मिलने के बाद भी लंबे समय तक रहेगा कोरोना, वैज्ञानिकों ने...

वैक्सीन मिलने के बाद भी लंबे समय तक रहेगा कोरोना, वैज्ञानिकों ने किया चौंकाने वाला खुलासा

नई दिल्ली। दुनिया इस वक्त कोरोना संक्रमण से जूझ रही है। अब तक लाखों जिंदगियां तबाह कर चुके कोरोना वायरस की वैक्सीन की तैयारी में तो तमाम देश लगे हैं। लेकिन यूएस के कई विशषज्ञों का मानना है कि वैक्सीन आने के बाद भी इसे खत्म करने में लंबा समय लग सकता है।

वाशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार, ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना वायरस की वैक्सीन आने के बाद भी यह वायरस आने वाले कई सालों तक रह सकता है। ऐसा भी संभव है कि वैक्सीन आने के बाद भी यह वायरस HIV, चीकन पॉक्स की तरह एंडेमिक बन जाए।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना वायरस पर हो रहे तमाम शोधों के बाद भी इससे जुडी कोई जानकारी एकदम पुख्ता रूप से सही नहीं कही जा सकती। हम सिर्फ इससे बचने के उपाय कर रहे हैं और कर सकते हैं, लेकिन जिस हिसाब से इसे लेकर असमंजस कायम है तो ऐसा संभव है कि भविष्य में यह वायरस लंबे समय तक रहे।

लगातार प्रयासों की आवश्यकता

फिलहाल, ऐसे 4 एंडेमिक कोरोनावायरस हैं जिनके कारण जुखाम होता है। कई विशेषज्ञों का मानना है कि covid 19 इसमें पांचवा बन सकता है। यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के एक बायोलॉजिस्ट के अनुसार, वायरस यहां लंबे समय तक रहने वाला है। विशेषज्ञों के अनुसार, इस बीमारी को खत्म करने के लिए लगातार प्रयासों की आवश्यकता है। इनके अनुसार, लोग इनसे पूछते हैं कि ऐसी एक चीज बताएं जो हमें करनी है? इसका जवाब है कि कोई एक चीज ऐसी है जो हमें करनी है, बल्कि हमें योजना की जरूरत है, जिससे तरीके से अमल किया जाए।

लंबे समय तक चलेंगे प्रयास

वहीं, यूएस के साथ-साथ अधिकतर सभी देश कोरोना वायरस की वैक्सीन ढूंढ निकालने में लगे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि वैक्सीन आने के बाद इस बीमारी का अंत हो जाएगा। हालांकि, ऐसा सिर्फ एक बार छोटी चेचक के दौरान हुआ है। उसमे भी दुनिया में दो दशक तक कई लोगों की जानें गई हैं। कई विशषज्ञों का मानना है कि वैक्सीन से जुडी योजना 10 साल तक खींच सकती है। हो सकता है कि आने वाले समय में कोरोना का प्रभाव थोड़ा कम हो जाए और इससे लोगों को सिर्फ थोड़ा इन्फेक्शन हो। हालांकि, ऐसा होने में लंबा समय लग सकता है।

लंबे समय तक रहना होगा सतर्क

ऐसा भी हो सकता है कि वैक्सीन आने के शुरू के कुछ सालों में डिमांड बहुत ज्यादा हो और उस मुकाबले सप्लाई कम हो। इसी के साथ विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि लोगों को जल्दी निवारण चाहिए होता है। भले ही उनके घर में या जान-पहचान में भी किसी को यह वायरस हो, तब भी वह इसके लम्बे समय की योजना को साथ लेकर नहीं चल सकते।

उदाहरण के लिए- जिन लोगों को तेज स्पीड से ड्राइव करना पसंद है, वो एक्सीडेंट के बाद कुछ समय के लिए तो धीरे ड्राइव कर लेंगे। लेकिन थोड़े समय बाद ही वो दोबारा तेज ड्राइविंग करने लगेंगे। विशेषज्ञों के अनुसार, आने वाले समय में हर किसी के किसी न किसी जानकर को कोरोना वायरस से इन्फेक्टेड या मृत होने की सम्भावना है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चीन ने LAC के तीन इलाकों से हटाई सेनाएं, वार्ता के बीच भारतीय फौज करती रहेगी पेट्रोलिंग

नई दिल्ली। भारत लद्दाख में पैगॉन्ग झील के किनारे फिंगर्स क्षेत्र के हिस्से में गश्त करता रहेगा। इसे दो देशों के बीच तनाव कम...

कोरोना संकट के बीच EIU की रिपोर्ट ने बढ़ाई टेंशन, कहा-कोरोना से भारत में बढ़ेंगी गंभीर बीमारियां

नई दिल्‍ली: एशियाई देशों में जैसे-जैसे रहने वाले लोग समृद्ध होते हैं, वह अस्वस्थ जीवन शैली अपनाने लगे हैं जिससे कैंसर का खतरा बढ़...

निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका, कोर्ट ने हाईकोर्ट जाने की दी सलाह

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना संकट को लेकर जारी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के मद्देनजर देश भर के निजी स्कूलों में तीन महीने की फीस...

देश के कई शहरों में मंहगा हुआ टमाटर, 70 के पार पहुंची कीमत

नई दिल्ली. कोरोना संकट के बीच देश के कई शहरों में टमाटर की खुदरा कीमतें बढ़कर 60-70 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गयी हैं....

Recent Comments